To checkout total: ₹ 0.00
श्रीकृष्ण ने हमें गाय का स्वरूप बताया 0
श्रीकृष्ण ने हमें गाय का स्वरूप बताया

श्रीकृष्ण ने हमें गाय का स्वरूप भगवान श्रीकृष्ण ने गाय तथा उसके बच्चों को अत्यन्त पवित्र भूमि पर खड़ा किया और सदा के लिए यह विधान कर दिया कि गाय से प्रेम करना, उस पर श्रद्धा रखना तथा उसकी पूजा करना अनिवार्य है क्योंकि गाय एक देवता है, जो पशु के रूप में पृथ्वी पर विचरती है। ऐसा करके भगवान श्रीकृष्ण ने गाय के ऊपर से पशुत्व का पर्दा हटा दिया, जिससे मनुष्य की माँ के रूप में गौ का रहस्यमय स्वरूप अपने दिव्य प्रकाश से प्रस्फुटित हो गया। जिन नेत्रों से गाय का वह वास्तविक रूप देखा जा सकता था, मनुष्य के उन नेत्रों पर अंधकार का जाल पड़ा हुआ था। श्रीकृष्ण ने इसी जाले को काटकर अलग कर दिया, तभी मनुष्य को गाय के प्रकाशमान रूप के दर्शन हुए। वास्तव में, श्रीकृष्ण ने गाय के उस आध्यात्मिक स्वरूप को प्रत्यक्ष कराने का कार्य किया। Buy Panchgvaya Products - www.gavyamart.com
मथुरा के निकट वृन्दावन के वनप्रदेश में प्रतिवर्ष इन्द्र के सम्मानार्थ बड़ी धूमधाम से उत्सव मनाया जाता था। श्रीकृष्ण ने इस प्राचीन धार्मिक प्रथा के विरूद्ध अपनी आवाज ऊँची की। उन्होंने अपने पिता नन्द जी को, जो उस ग्रामीण प्रदेश के अधिपति तथा वृन्दावन के प्रधान व्यक्ति थे, अनुमति दी कि इन्द्र की नहीं, बल्कि गायों की पूजा की जाए, जो वन-पर्वतों की देवी हैं। इन्द्र इस व्यवहार से बड़े क्रोधित हुए और उनमें प्रतिशोध की भावना जाग्रत हुई। उन्होंने मेघों को आज्ञा दी कि वृन्दावन के ऊपर भयंकर काली घटा बनकर छा जाओ, कड़को, गरजों, बिजली चमकाओ, प्रचण्ड पवन द्वारा पानी की तीक्ष्ण बौछार फेंको तथा भीषण उत्पात मचाकर श्रीकृष्ण के वृन्दावन को मनुष्य तथा पशुओं सहित नष्ट कर दो। इन्द्र के क्रोध से भगवान श्रीकृष्ण ने सम्पूर्ण वृन्दावन व वनप्रदेश की रक्षा की। लोगों ने देखा कि श्रीकृष्ण ने अपने एक हाथ से गोवर्धन पर्वत को उठाकर एक विशाल अभेद्य छाता बना लिया और उसके द्वारा पूरे सप्ताह भर उस भयानक तूफान को लोगों के निकट नहीं आने दिया। gavyamart.com
वास्तव में, श्रीकृष्ण के विषय में इन्द्र बड़ी भूल में थे। अंत में, इन्द्र के ज्ञान नेत्र खुल गए। उन्होंने अपने स्वामी तथा सारी सृष्टि के स्वामी श्रीकृष्ण को पहचान लिया। इन्द्र अपनी सारी शक्तियों के साथ उनकी शरण में आ गए। भगवान श्रीकृष्ण का ‘गोविन्द’ नाम उस दिन नए अर्थ में प्रसिद्ध हुआ। अब से श्रीकृष्ण गाय को इन्द्र से भी अधिक सम्मान के योग्य समझेंगे। www.gavyamart.com

जब इन्द्र का अहंकार नष्ट हुआ और उन्होंने श्रीकृष्ण के प्रभाव को जाना और भगवान के शरणागत हुए, तब उस समय कामधेनु गाय ने श्रीकृष्ण का अभिषेक किया, इसी कारण से यह दिन कार्तिक शुक्ल अष्टमी धूमधाम से ‘गोपाष्टमी’ पर्व के रूप में सम्पूर्ण भारतवर्ष में मनाया जाता है। www.gavyamart.com

Panchagavya Ghrita (पंचगव्य घृत) 5
Panchagavya Ghrita (पंचगव्य घृत)

Panchagavya Ghrita is a medicated Ghee. It contains five components viz. cow milk, ghee and curd from cow milk, cow urine and fresh cow dung juice. It is useful against mania, epilepsy, fever and jaundice. It improves cognitive performance. It has anti-epileptic, anti-convulsing, anti-seizure, and antioxidant properties. Its intake protects liver and gives relief in swelling. It is also useful in Obsessive Compulsive Disorder (OCD).

read more »
Organic Ghee 3

Ghee is a class of clarified butter that is originated in ancient India and it is used commonly in South Asian cuisines, traditional medicine and religious rituals. One most important class of ghee is Indian Cow ghee. Lord Krishna was said to be very fond of Indian cow ghee as a young child.

read more »
गावो विश्वस्य मातरः 3
गावो विश्वस्य मातरः

गावो विश्वस्य मातरः

आज भारत वर्ष मे ही नहीं पूरे विश्व मे सभी मानव सुखी है पर जीव मात्र की माता कहलाने का अधिकार रखने वाली वेदों द्वारा पूज्यनीय, देवताओं को भी भोग और मोक्ष प्रदान करने की शक्ति रखने वाली गौ माता आज सड़कों पर मल, गन्दगी, प्लास्टिक खाने को मजबूर है |

भगवान श्री कृष्ण की कृपा से आज भी भारत वर्ष मे ही नहीं पूरे विश्व मे कुछ ऐसे पुण्यवान, भामाशाह और अपनी माँ के कोख को धन्य करने वाले गौ भक्त भी है, जिनके सहयोग से आज भी लाखो गौवंश गौशालाओं मे, किसानों के यहाँ, अपने घर पर ही सुरक्षित है | क्या ये गौभक्त, जिनकी वजह से पूरी सृष्टी का संतुलन बना हुआ है, आगे भी इसी प्रकार गौ – सेवा में संलग्न रह सकेंगे ?

 

read more »
A1 and A2 milk? 4
A1 and A2 milk?

What actually is A1 and A2 milk?

Milk contains about 85% water. The remaining 15% is the milk sugar lactose, protein, fat and minerals. Beta-casein is about 30% of the total protein content in milk. A2 milk is the milk that contains only the A2 type of beta-casein protein whereas A1 milk contains only A1 beta casein or A1A2 type variant. A1 protein variant is commonly found in milk from crossbred and European breeds of cattle. A2 milk is found basically in indigenous cows and buffaloes
of India (Asia as a whole). A2 milk is branded by the A2 Milk Company like A2 Corporation and sold mostly in Australia, New Zealand, United Kingdom and other developed countries.

 

read more »
up
Shop is in view mode
View full version of the site
Ecommerce Software